मेरे अनुभव को अपनी प्रतिक्रिया से सजाएँ

प्रकाश की खोज

>> Friday, May 30, 2008






मैं एक अजर-अमर

शुद्ध स्वरूप आत्मा हूँ

शान्ति मेरा स्वभाव

और प्रकाश मेरा स्वरूप है

इसी कारण ….

सदा-सर्वदा

प्रकाश की ओर अग्रसर हूँ

जब भी,जहाँ भी

प्रकाश की कोई किरण

पाती    हूँ

उसी ओर बढ़  जाती हूँ

किन्तु पास जाने पर

प्रकाश नहीं धोखा निकलता है

एक ऐसा धोखा……

जो आँखों को चौंधियाता है

किन्तु रौशनी नहीं देता

सत्य तो दिखाता है

किन्तु नग्न सत्य

जिसे देख आँखें शान्ति नहीं पाती

जलने लगती हैं…..

हृदय  और अधिक उद्वेलित

और आवेशित हो जाता है

शान्ति की तलाश में

अशान्ति ही पाता है….

आज तक…..

प्रकाश ने सर्वदा

आँखें ही चौंधियाई हैं

जीवन की पूँजी बस

यूँ ही गँवाई है

9 comments:

कुश एक खूबसूरत ख्याल May 30, 2008 at 4:18 PM  

सुंदर अभिव्यक्ति.. बधाई स्वीकार करे..

नीरज गोस्वामी May 30, 2008 at 5:04 PM  

शोभा जी
बेहद खूबसूरत शब्दों से अपने भावों को आप ने कविता में ढाला है. बधाई.
नीरज

DR.ANURAG ARYA May 30, 2008 at 7:55 PM  

kavita ke bhavo ko aapka chitr bhi ek sajeev roop deta hai,vakai ek sundar kavita hai.....

Udan Tashtari May 30, 2008 at 10:03 PM  

बहुत सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति.

mehek May 30, 2008 at 10:31 PM  

bahut hi sundar,bahut badhai

राजीव रंजन प्रसाद May 30, 2008 at 10:43 PM  

एक अच्छी और दारशनिक रचना, बधाई स्वीकारें..

***राजीव रंजन प्रसाद

रंजू ranju May 31, 2008 at 9:06 AM  

भावपूर्ण सुंदर अभिव्यक्ति शोभा जी

Rajesh June 3, 2008 at 1:10 PM  

Shobhaji, aap ki is kavita ke bhaav kuchh samaj mein nahi aaye. Jab Prakash hi apna swaroop bata rahi hain to phir aap aur kis prakash ko dhundh rahi hai aur kis prakash ki aur agresar hai aap?
सत्य तो दिखाता है
किन्तु नग्न सत्य
जिसे देख आँखें शान्ति नहीं पाती
जलने लगती हैं…..
Aur jo nagna satya aap dekh rahi hai to yahan kahna chahoonga ki satya to hamesa nagna hi hota hai aur aise satya ko jo sweekar kar sake wahi reality hai. Satya to jis swaroop mein bhi hai, agar wah satya hai to usi ko aap ko sweekar karna hoga.......

आशीष कुमार 'अंशु' June 6, 2008 at 3:11 PM  

बहूत खूब

  © Blogger template Shiny by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP