मेरे अनुभव को अपनी प्रतिक्रिया से सजाएँ

एक मधुर गीत- नैना ठग लेंगें

>> Sunday, May 25, 2008

Get this widget Track details eSnips Social DNA

3 comments:

Rajesh Roshan May 25, 2008 at 1:55 PM  

ये गुलज़ार के कलम का जादू है

रंजू ranju May 25, 2008 at 2:58 PM  

यह गाना वाकई बहुत सुंदर है

अभिषेक ओझा May 26, 2008 at 12:46 PM  

विशाल भारद्वाज और गुलज़ार... कमाल का गीत.

  © Blogger template Shiny by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP