मेरे अनुभव को अपनी प्रतिक्रिया से सजाएँ

>> Friday, September 14, 2012


हिन्दी दिवस पर मेरी एक छात्रा की अभिव्यक्ति 


हिन्दी दिवस


 १४ सितम्बर को है हिन्दी दिवस


 हमारी अध्यापिका ने है बताया


 मुख्य रूप से हैं तो वो हिन्दी की अध्यापिका


 यह जानकर दिल हर्षाया


 उन्होंने हम सब को हिन्दी का इतिहास बताया


 किस-किस ने इसको यहां तक पहुंचाया


 हमारी हिन्दी सबसे सुन्दर सबसे सरल भाषा है


 व्याकरण है बहुत तर्क संगत


विदेशी  शब्दों को प्यार से अपनाती है


 सभी पर अपनी ममता लुटाती है


 बहुत वैग्यानिक है यह भाषा


 हम सबको इससे हैं बहुत आशा


 मेरे मन में भी कवि बनने का विचार आया


 बस तभी मैने यह कलम उठाया


 साक्षी दशम अ

3 comments:

दिगम्बर नासवा September 15, 2012 at 2:35 PM  

सरल सरस भाषा मिएँ सुन्दर रचना ... हिंदी के महत्त्व को दर्शाती ...

Anju (Anu) Chaudhary September 15, 2012 at 8:23 PM  

रचा तो सच में सरस है ....मन को छू गई ...बहुत खूब

Vinay Prajapati December 31, 2012 at 9:48 PM  

नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ... आशा है नया वर्ष न्याय वर्ष नव युग के रूप में जाना जायेगा।

ब्लॉग: गुलाबी कोंपलें - जाते रहना...

  © Blogger template Shiny by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP