मेरे अनुभव को अपनी प्रतिक्रिया से सजाएँ

दीपावली

>> Thursday, November 1, 2007


दीपावली नाम है प्रकाश का
रौशनी का खुशी का उल्लास का
दीपावली पर्व है उमंग का प्यार का
दीपावली नाम है उपहार का
दीवाली पर हम खुशियाँ मनाते हैं
दीप जलाते नाचते गाते हैं
पर प्रतीकों को भूल जाते हैं ?
दीप जला कर अन्धकार भगाते हैं
किन्तु दिलों में -
नफरत की दीवार बनाते है ?
मिटाना ही है तो -
मन का अन्धकार मिटाओ
जलाना ही है तो -
नफ़रत की दीवार जलाओ
बनाना ही है तो -
किसी का जीवन बनाओ
छुड़ाने ही हैं तो -
खुशियों की फुलझड़ियाँ छुड़ाओ
प्रेम सौहार्द और ममता की
मिठाइयाँ बनाओ ।
यदि इतना भर कर सको आलि

तो खुल कर मनाओ दीपावली

6 comments:

Udan Tashtari November 1, 2007 at 8:40 PM  

बढ़िया है. मनाईये खुल कर दिवाली. बधाई और शुभकामनायें.

दीपक भारतदीप November 1, 2007 at 9:29 PM  

आपको दिपावली की बधाई.
दीपक भारतदीप

Sagar Chand Nahar November 2, 2007 at 4:14 PM  

कहना बहुत आसान है, करना उतना ही मुश्किल! क्या आपको लगता है कि आपने जो बातें कही है आसानी से कोई अपना लेगा?

आशीष कुमार 'अंशु' November 3, 2007 at 4:57 PM  

बहुत खूब..

Rajesh November 5, 2007 at 12:00 PM  

Shobhaji,
Kaash, jo aap ne bataya hai, use log practice mein rakh sake. Bahot hi namoomkin hai aaj ke yah bhayavah daur mein in baaton ko aachar mein rakh pana. aaj jab ki log ek doosron ke dushman ban chuke hai, koi kisi ki baat maan ne ko taiyar nahi hai, jahan auron ke diye se apne deepak jalane ko log taraste rahte hai, agar in sab ke beech aap ke yah sujaav koi kuchh log bhi agar aacharan mein rakh paye, yah deepavali dhanya ho payegi. Main tahe dil se bhagwan se prarthana karoonga ki logon tak aap ki baat pahunche aur ve ise apna sake. Vaise logon mein main aur aap bhi included hi hai, matlab ki hamen bhi in baaton ka paalan karna hi hai. yah sunder rachna ke liye badhayi

Arun Bhardwaj October 6, 2009 at 6:00 PM  

Arun Bhardwaj
Aap nai bhoot achha likha hai. sirf jrurat hai to sirf iss per amal karnai ki.

  © Blogger template Shiny by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP