मेरे अनुभव को अपनी प्रतिक्रिया से सजाएँ

कमलासना माँ!

>> Wednesday, January 20, 2010


माँ!

तुम कब तक यूँ ही

कमलासना बनी

वीणा- वादन करती रहोगी?

कभी-कभी अपने

भक्तों की ओर

भी तो निहारो

देखो--

आज तुम्हारे भक्त

सर्वाधिक उपेक्षित

दीन-हीन जी रहे हैं

भोगों के पुजारी

महिमा-मंडित हैं

साहित्य संगीत

कला के पुजारी

रोटी-रोज़ी को

भटक रहे हैं

क्या अपराध है इनका-?

बस इतना ही- -

कि इन्होने

कला को पूजा है?

ऐश्वर्य को

ठोकर मार कर

कला की साधना

कर रहे हैं ?

कला के अभ्यास में

इन्होने

जीवन दे दिया

किन्तु लोगों का मात्र

मनोरंजन ही किया ?


माँ!

आज वाणी के पुजारी

मूक हो चुके हैं

और वाणी के जादूगर

वाचाल नज़र आते हैं

आज कला का पुजारी

किंकर्तव्य-मूढ़ है

कृपा करो माँ--

राह दिखाओ

अथवा ----

हमारी वाणी में ही

ओज भर जाओ

इस विश्व को हम

दिशा-ग्यान कराएँ

भूले हुओं को

राह दिखाएँ

धर्म,जाति और

प्रान्त के नाम पर

लड़ने वालों को

सही राह दिखाएँ

तुमसे बस आज

यही वरदान पाएँ

15 comments:

श्यामल सुमन January 20, 2010 at 7:24 PM  

आज के समय की सच्ची और बेहतरीन प्रार्थना शोभा जी। वाहा।।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com

दिगम्बर नासवा January 20, 2010 at 7:29 PM  

आज के समयनुसार सार्थक प्रार्थना ...... आपको बसंत पंचमी की शुभकामनाएँ ...........

महेन्द्र मिश्र January 20, 2010 at 7:49 PM  

बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाये ओर बधाई आप सभी को .

रविकांत पाण्डेय January 20, 2010 at 8:46 PM  

बहुत दिनों बाद आपको पढ़ा। अच्छी रचना। भावों का सुंदर प्रवाह।

डॉ. मनोज मिश्र January 20, 2010 at 9:31 PM  

कई सवालों को लिए है यह रचना,धन्यवाद.

ह्रदय पुष्प January 20, 2010 at 10:13 PM  

आज तुम्हारे भक्त
सर्वाधिक उपेक्षित
दीन-हीन जी रहे हैं
भोगों के पुजारी
महिमा-मंडित हैं
साहित्य संगीत
कला के पुजारी
रोटी-रोज़ी को
भटक रहे हैं
बसंत पंचमी और माँ सरस्वती को नमन के माध्यम से बेहद सटीक और सार्थक उदगार.
मां सरस्वती का वंदन करते हुए आपको बसंत पंचमी और इस रचना के लिए हार्दिक बधाई, इस आशा और विश्वास के साथ आपका वरदान फलीभूत हो.

राज भाटिय़ा January 20, 2010 at 11:25 PM  

एक सच्ची प्राथना, बहुत सुंदर
वसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाये

Udan Tashtari January 21, 2010 at 9:37 AM  

सार्थक प्रार्थना!

वसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाये

psingh February 2, 2010 at 2:33 PM  

sabhi kalakaro ki vyatha
apne kahdi......abhar

ashish February 5, 2010 at 10:25 PM  

वाह क्या खूब लिखा है

STRANGER February 8, 2010 at 4:44 PM  

वा.....................ह

akhil February 15, 2010 at 8:57 PM  

hi shobhaji,your expression is very commendable.it ispires and instill something live in our heart.its really vulnerable to feel it.

Tamil Home Recipes February 21, 2010 at 3:35 PM  

This blog is nice.

蜜桃情人 February 24, 2010 at 12:29 PM  

一夜情視訊聊天室 |
成人免費視訊聊天 |
MSN情色成人聊天室 |
蕃蕃藤視訊交友 |
愛島交友聊天室 |
線上成人交友中心 |
視訊交友 |
影音視訊聊天室 |

日月神教-任我行 April 11, 2010 at 3:43 AM  

成人論壇,080聊天室,080苗栗人,免費a片,視訊美女,視訊做愛,免費視訊,伊莉討論區,sogo論壇,台灣論壇,plus論壇,維克斯論壇,情色論壇,性感影片,正妹,走光,色遊戲,情色自拍,kk俱樂部,好玩遊戲,免費遊戲,貼圖區,好玩遊戲區,中部人聊天室,情色視訊聊天室,聊天室ut,成人電影,成人遊戲,成人文學,免費成人影片,成人光碟,情色遊戲,情色a片,情色網,性愛自拍,美女寫真,亂倫,戀愛ING,免費視訊聊天,視訊聊天,成人短片,美女交友,美女遊戲,18禁,三級片,自拍,後宮電影院,85cc,免費影片,線上遊戲,色情遊戲,日本a片,美女,成人圖片區,avdvd,色情遊戲,情色貼圖,女優,偷拍,正妹牆

  © Blogger template Shiny by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP