मेरे अनुभव को अपनी प्रतिक्रिया से सजाएँ

meri परछाईh

>> Thursday, October 18, 2007

2 comments:

Udan Tashtari October 18, 2007 at 10:06 PM  

कविता अच्छी लगी. साथ में कविता लिखित में भी रहती तो सुनने का आनन्द और बढ़ जाता है. मात्र सुझाव है कृप्या अन्यथा न लें.

parul k October 18, 2007 at 10:13 PM  

सुनना बहुत अच्छा लगा……बहुत खूब

  © Blogger template Shiny by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP