मेरे अनुभव को अपनी प्रतिक्रिया से सजाएँ

फिर आया फागुन….

>> Friday, February 26, 2010


फिर आया फागुन….


फिर आया फागुन


रंगों की बहार


तुम भी आजाओ


ये दिल की पुकार



टेसू के फूलों ने


धरती सजाई


अबीर, गुलाल ने


चाहत जगाई


कोयल की कुहू


डसे बार- बार


तुम भी आ जाओ…

….

खिलती नहीं दिल में


भावों की कलियाँ


सूनी पड़ी मेरे


जीवन की गलियाँ


तुम बिन ना मौसम में


आए बहार


तुम भी आजाओ…..

16 comments:

महेन्द्र मिश्र February 26, 2010 at 7:59 PM  

फागुन पर बेहतरीन अच्छी रचना . आपको भी होली पर्व की शुभकामनाये

डॉ. मनोज मिश्र February 26, 2010 at 8:31 PM  

बहुत भावना पूर्ण रचना है,बधाई.

Suman February 26, 2010 at 9:01 PM  

nice

RaniVishal February 26, 2010 at 9:48 PM  

Sundar....Holi ki shubhkaamanaae!!

राज भाटिय़ा February 27, 2010 at 12:01 AM  

बहुत सुंदर कविता, शोभा जी आप बहुत कम आती है आज कल ?

दिगम्बर नासवा February 27, 2010 at 1:31 PM  

होली के रंगों में किसी की प्रतीक्षा ... सुंदर रचना है ......
आपको और आपके समस्त परिवार को होली की शुभ-कामनाएँ ...

अल्पना वर्मा February 28, 2010 at 2:15 PM  

खूबसूरत कविता, शोभा जी.
आपको सपरिवार होली की बहुत बहुत शुभकामनाएं

ashubakaiti February 28, 2010 at 3:21 PM  

aapko holi ki badhai
par afsos ki rachna bahut sathi hai
ummeed se bhi jyada.

सतीश सक्सेना March 1, 2010 at 12:19 AM  

क्षमाप्रार्थी हूँ, बहुत दिन बाद आ पाया ! होली पर शुभकामनायें स्वीकार करें !!

Sanjay Kareer March 1, 2010 at 4:28 PM  

होली पर आपको अनेक शुभकामनाएं
उदकक्ष्‍वेड़ि‍का …यानी बुंदेलखंड में होली

बेचैन आत्मा March 1, 2010 at 5:17 PM  

सुंदर फागुनी कविता.
बधाई.
आको होली की ढेर सारी शुभकामनाएँ.

Maria Mcclain March 2, 2010 at 7:32 PM  

Hi shobha, ur blog is really interesting & wonderful, while reading it I truly like it. I just wanna suggest that u should submit your blog in this website which is offering very unique features at cheap prices there are expert advertising team who will promote ur blog & affiliate ads through all over the networks which will definitely boost ur traffic & readers. Finally I have bookmarked ur blog & also shared to my friends.i think my friend might too like it hope u have a wonderful day & !!happy blogging!!.

arvind March 3, 2010 at 10:46 AM  

बेहतरीन रचना .शुभकामनाये

Vinay Prajapati 'Nazar' March 21, 2010 at 10:59 PM  

बहुत सुन्दर!

आशीष/ ASHISH April 15, 2010 at 7:31 PM  

Pata bataiye, main aa raha hoon!

neelima garg May 24, 2010 at 5:22 PM  

sundar kavita...

  © Blogger template Shiny by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP