मेरे अनुभव को अपनी प्रतिक्रिया से सजाएँ

फिर नयन उन्माद छाया

>> Thursday, February 12, 2009



प्रेम की ऋतु फिर से आई
फिर नयन उन्माद छाया
फिर जगी है प्यास कोई
फिर से कोई याद आयाफिर खिलीं कलियाँ चमन में
रूप रस मदमा रहीं----
प्रेम की मदिरा की गागर
विश्व में ढलका रही
फिर पवन का दूत लेकर
प्रेम का पैगाम आया-----
टूटी है फिर से समाधि
आज इक महादेव की
काम के तीरों से छलनी
है कोई योगी-यति
धीर और गम्भीर ने भी
रसिक का बाना बनाया—
करते हैं नर्तन खुशी से
देव मानव सुर- असुर
‘प्रेम के उत्सव’ में डूबे
प्रेम रस में सब हैं चूर
प्रेम की वर्षा में देखो
सृष्टि का कण-कण नहायाप्रेम रस की इस नदी में
आओ नफ़रत को डुबा दें
एकता का भाव समझें
भिन्नता दिल से मिटा दें
प्रान्तीयता का भाव देखो
राष्ट्रीयता में है समाया--

12 comments:

परमजीत बाली February 12, 2009 at 1:54 PM  

बहुत सुन्दर रचना है।बधाई स्वीकारें।
बहुत सुन्दर लिखा है--

"आओ नफ़रत को डुबा दें
एकता का भाव समझें
भिन्नता दिल से मिटा दें
प्रान्तीयता का भाव देखो
राष्ट्रीयता में है समाया-"

Arvind Mishra February 12, 2009 at 4:15 PM  

सर्वं प्रेममयम जगत ! बढिया कविता !

रंजना February 12, 2009 at 8:37 PM  

""आओ नफ़रत को डुबा दें
एकता का भाव समझें
भिन्नता दिल से मिटा दें
प्रान्तीयता का भाव देखो
राष्ट्रीयता में है समाया""

वाह ! वाह ! वाह ! अद्वितीय !
राष्ट्रीयता प्रेम रंग में रंगी हुई...अद्भुत......इस सुंदर गीत को होंठ बरबस ही गुनगुना उठे.....लाजवाब.......

राज भाटिय़ा February 12, 2009 at 11:06 PM  

बहुत सुंदर, अगर हम सब नफ़रत को भुल कर, ऊंच नीच को भुल कर एक हो जाये तो दुनिया मै सब से ऊपर हमीं हो.
धन्यवाद इस कविता के लिये

राकेश खंडेलवाल February 12, 2009 at 11:10 PM  

सुन्दर भाव संयोजन

समयचक्र - महेद्र मिश्रा February 14, 2009 at 6:50 PM  

आपकी चिठ्ठे की चर्चा समयचक्र पर
समयचक्र: चिठ्ठी चर्चा : वेलेंटाइन, पिंक चडडी, खतरनाक एनीमिया, गीत, गजल, व्यंग्य ,लंगोटान्दोलन आदि का भरपूर समावेश

प्रदीप मानोरिया February 14, 2009 at 11:06 PM  

बहुत खूबसूरत अल्पना जी
कविता भी बहुत अच्छी और आपकी मधुर आवाज़ भी

Mrs. Asha Joglekar February 15, 2009 at 4:45 PM  

बहुत ही सुंदर कविता है । प्रेम दिन के लिये सर्वथा योग्या । और अंतिम तो बस कमाल ।
आओ नफ़रत को डुबा दें
एकता का भाव समझें
भिन्नता दिल से मिटा दें
प्रान्तीयता का भाव देखो
राष्ट्रीयता में है समाया--

Dileepraaj Nagpal February 15, 2009 at 10:13 PM  

Bahu Khoob. Prem Ke Utsav M Doobe, Prem Ras Me sab Hain coor...Badhayi

Anonymous February 21, 2009 at 3:40 PM  

GREAT ,,piece of poetry.

Anonymous January 29, 2010 at 11:07 PM  

AV,無碼,a片免費看,自拍貼圖,伊莉,微風論壇,成人聊天室,成人電影,成人文學,成人貼圖區,成人網站,一葉情貼圖片區,色情漫畫,言情小說,情色論壇,臺灣情色網,色情影片,色情,成人影城,080視訊聊天室,a片,A漫,h漫,麗的色遊戲,同志色教館,AV女優,SEX,咆哮小老鼠,85cc免費影片,正妹牆,ut聊天室,豆豆聊天室,聊天室,情色小說,aio,成人,微風成人,做愛,成人貼圖,18成人,嘟嘟成人網,aio交友愛情館,情色文學,色情小說,色情網站,情色,A片下載,嘟嘟情人色網,成人影片,成人圖片,成人文章,成人小說,成人漫畫,視訊聊天室,性愛,a片,AV女優,聊天室,情色

Anonymous January 31, 2010 at 1:26 PM  

AV,無碼,a片免費看,自拍貼圖,伊莉,微風論壇,成人聊天室,成人電影,成人文學,成人貼圖區,成人網站,一葉情貼圖片區,色情漫畫,言情小說,情色論壇,臺灣情色網,色情影片,色情,成人影城,080視訊聊天室,a片,A漫,h漫,麗的色遊戲,同志色教館,AV女優,SEX,咆哮小老鼠,85cc免費影片,正妹牆,ut聊天室,豆豆聊天室,聊天室,情色小說,aio,成人,微風成
,做愛,成人貼圖,18成人,嘟嘟成人網,aio交友愛情館,情色文學,色情小說,色情網站,情色,A片下載,嘟嘟情人色網,成人影片,成人圖片,成人文章,成人小說,成人漫畫,視訊聊天室,a片,AV女優,聊天室,情色,性愛

  © Blogger template Shiny by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP